शुक्रवार, 1 मई 2020

विश्वम्भरा : वर्तमान कलेवर

आज हम कहाँ हैं : आचार्य कविता वाचक्नवी 


संस्था का इतिहास व संक्षिप्त औपचारिक परिचय वर्ष 2001 में इस पृष्ठ कड़ी पर लिखे जाने के पश्चात्, अब 'विश्वम्भरा हिन्दी-लेखिका संघ' (भारतवंशी लेखिकाओं का संगठन), विश्वम्भरा हिन्दी-संघ (अमेरिका, भारत व योरोप में भाषा के प्र्योजनमूलक पक्षों के विस्तार व संवर्धन हेतु), विश्वम्भरा वैदिक स्वाध्याय (भारतीय वैदिक वाङ्मय, शिक्षा आदि पक्षों के प्रचार-प्रसार हेतु) अधुनातन माध्यमों व विधियों से अनेकानेक क्षेत्रों में  शिशुओं से लेकर वृद्धावस्था तक के लोगों हेतु कार्य कर रही है।  

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी सार्थक प्रतिक्रिया मूल्यवान् है। ऐसी सार्थक प्रतिक्रियाएँ लक्ष्य की पूर्णता में तो सहभागी होंगी ही,लेखकों को बल भी प्रदान करेंगी।। आभार!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...